सीधे बैंक एकाउंट में जमा होगी छात्रवृत्ति

11वीं कक्षा से लेकर कालेज स्तर के आरक्षित वर्ग के छात्र- छात्राओं को अपनी छात्रवृति के लिए ट्रायबल डिपार्टमेंट से लेकर स्कूल-कालेजों का चक्कर नही लगाना पडेगा। छात्र-छात्राओं को एटीएम कार्ड की तर्ज पर शिक्षासंगी कार्ड की तरह उपयोग कर अपंनी छात्रवृति की राशि निकाल सकते है। जिले में 28 हजार छात्र-छात्राओं को यह शिक्षासंगी कार्ड दिया गया है।
    शिक्षासंगी कार्ड योजना पोस्ट मेट्रिक छात्र-छात्राओं के लिए है। इस योजना के लिए राज्य शासन की ओर से सेंट्रल बैंक से एमओयू किया गया है, सेंट्रल बैंक द्वारा ही छात्रों के लिए शिक्षासंगी कार्ड बनवाया जा रहा है। पूर्व में छात्रवृति की जो प्रक्रिया थी उसके अनुसार शासन से एलाटमेंट ट्रायबल डिपार्टमेंट को प्राप्त होता था और वहां से फिर संबंधिक स्कूल कालेज संस्थाओं को भेजा जाता था। यह प्रक्रिया काफी लंबी चलती थी, क्योकि यहां से प्रस्ताव भेजने के बाद शासन से स्वीकृति में भी विलंब होता था। अब इस योजना के तहत सबकुछ आनलाइन हो गया। छात्र-छात्राए आनलाइन फार्म भरकर लाक करेंगे और फार्म आंनलाइन संस्था में चला जाएगा। संस्था उसको स्वीकृत कर लाक करेंगे तो यह फार्म आनलाइन आयुक्त कार्यालय विकास विभाग चला जाएगा। वहां पर स्वीकृति पश्वात राशि आनलाइन डाल दी जाएगी। इसके लिए पोस्ट मेट्रिक 10 वीं कक्षा से ऊपर कक्षा वाले छात्र-छात्राओं को शिक्षासंगी कार्ड बनाकर दिया जा रहा है। अभी तक 28 हजार छात्र-छात्राओं को शिक्षासंगी कार्ड बनकर आ गया है और उनको यह कार्ड वितरित भी कर दिया है।

Friday the 15th. Affiliate Marketing. © janjgirlive.com
Copyright 2012

©